11/30/19

[Best] Poem on Mother In Hindi [2020] माँ हर पल तेरी मौजूदगी का अहसास होता है

Poem on Mother In Hindi

Poem_on_Mother_With_Baby
Poem on Mother
मेरे प्यारे भाइयो  आप सब को पता ही होगा की मां क्या चीज होती है   मां की तुलना इस संसार के किसी भी चीज से की जाए तो कम है | क्योंकि मां एक  प्यार और ममता का एक सागर है जिसमें पूरी दुनिया समाई हुई है इस दुनिया में किसी की अगर मां नहीं है तो  वह इस दुनिया में  सबसे गरीब इंसान है | जब  कोई छोटा बच्चा जन्म लेता है तो वह इस दुनिया के बारे में कुछ नहीं जानता लेकिन वही बच्चा अगले 24 घंटे के अंदर अपनी मां को भली - भाति पहचान लेता है | अगर उसकी मां उससे थोड़ी दूर चली जाए तो बच्चा  रोने लगता है, क्योंकि वह मां को भली भांति पहचान चुका होता है, और उसी मां की आंचल की छाया में वह पलता है, बड़ा हो जाता है |  तो  मेरे प्यारे भाइयों एवं बहनों आपको पता होना चाहिए कि आप उनमें से भी एक हो इसलिए अपनी मां का दिल कभी दुखाना नहीं क्योंकि आंखे बंद करके जब  सोचोगे कि बचपन में मेरी मां कैसे मुझे रखती थी क्या खिलाती थी कहां सुलाती थी अगर यह बात जानोगे तो शायद अपनी मां का दिल कभी ना दुखाओगे  और ना कभी  माँ को भूलोगे | इसलिए  मां की हमेसा  इज्जत करो मां को प्यार दो और मां के कर्ज को निभाओ यही हमारा आप सबका पहला  कर्तव्य है , एक ऐसे ही मां के लाडले ( मनीष कुमार तिवारी  ने  जो की अपनी माँ की सेवा करते हुए इस धरती माँ की सेवा कर रहे  है ) इन्होने मां के ऊपर (Poem on Mother) एक प्यारी सी दो लाइन की कविता (Poem on Mother) लिखी है, इसे अवश्य पढ़ें और अपने दोस्तों को शेयर करें शायद इससे कुछ सिख मिल जाये |  
[Best] Poem On mother
माँ हर पल तेरी मौजूदगी 
का अहसास होता है ,
इस दुनिया से दूर होकर 
भी हर क्षण पास होने का ,
आभास होता है मॉ !

जब जब कोई संकट ,विपति 
आती है , मॉ
 तेरे ही कर्मठ व्यवहार को याद कर ,
चट्टानों सी अड़िग ,दृड़ ,निर्भय 
हो संर्घष कर हर संकटों से ,

उभर जाता हूं मॉ उस क्षण 
मॉ तेरी मौजूदगी का अहसास 
होती है  मॉ हर दुख दर्द में 
दर्द का बाम होती है मॉ !

अपने अंतस मन में 
तेरी छवि निहारता हूं ,
मॉ तुझमें मैं ईश्वर की 
मौजूदगी का अहसास 
पाता हूं मॉ !

धूप में छॉव ,भूख में निवाला 
ममता ,समता ,क्षमता ,नम्रता 
में तू ही समाई है मॉ ,
ब्रम्हाड के अनंत में ,

तेरी अस्तित्व की मौजूदगी 
का अहसास है मॉ ,
मॉ क्षण ,क्षण तेरी 
मौजूदगी का अहसास है ,
मॉ , मॉ !

-----जय हिन्द दोस्तों-----

कवि:- सैनिक मनीष कुमार  तिवारी
    

Post a Comment