Sunday, December 15, 2019

Best Poem On Women In Hindi नारी का सम्मान करो | Respect Women.

नारी का सम्मान करो | Respect Women.

Poem
एक स्त्री के योनि से जन्म लेने के बाद उसके वक्षस्थल से निकले दूध से अपनी भूख,प्यास मिटाने वाला इंसान बड़ा होते ही औरत से इन्हीं दो अंगो की चाहत रखता है,और अगर असफल होता है तो इसी चाहत में वीभत्स तरीको को अंजाम देता है,बलात्कार और फिर हत्या.जननी वर्ग के साथ इस तरह की मानसिकता क्यूँ...?
वध होना चाहिए ऐसी दूषित मानसिकता के लोगों का.

मेरे दूध का कर्ज़ मेरे ही खून से चुकाते हो
कुछ इस तरह तुम अपना पौरुष दिखाते हो

दूध पीकर मेरा तुम इस दूध को ही लजाते हो 
वाह रे पौरुष तेरा तुम खुद को पुरुष कहलाते हो

हर वक्त मेरे सीने पर नज़र तुम जमाते हो
इस सीने में छुपी ममता क्यों देख नहीं पाते हो

इक औरत ने जन्मा ,पाला -पोसा है तुम्हें
बड़े होकर ये बात क्यों भूल जाते हो

मेरे दूध का कर्ज़ मेरे ही खून से चुकाते हो
कुछ इस तरह तुम अपना पौरुष दिखाते हो

तेरे हर एक आँसू पर हज़ार खुशियाँ कुर्बान कर देती हूँ मैं
क्यों तुम मेरे हजार आँसू भी नहीं देख पाते हो

हवस की खातिर आदमी होकर क्यों नर पिशाच बन जाते हो 
हमें मर्यादा सिखाने वालों तुम अपनी मर्यादा क्यों भूल जाते हो
हमें मर्यादा सिखाने वालों तुम अपनी मर्यादा क्यों भूल जाते हो...!

इस कविता को लिखने का मेरा उद्देश्य यह है आए दिन हो रहे समाज में इस तरह की गुस्ताखियां समाज को और भी खोखला बना रही है जिससे हमारे देश पर बहुत ही बुरा असर पड़ रहा है इंसान दिन प्रतिदिन शैतान और हैवान का रूप लेते जा रहा है, घर की स्त्रियां सुरक्षित महसूस नहीं कर पा रही है कहीं भी अकेले जाने से डरती है समाज में बढ़ती हुई इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए हमें और आप सबको कानून में सुधार लाने का अपील जारी करना होगा जब तक कानून में सुधार नहीं आएगा तब तक समाज को इस समस्या से छुटकारा नहीं मिलेगा, मेरी कविता और मेरा सुझाव आप सबको कैसा लगा कमेंट में जरूर लिखकर बताइए और ज्यादा से ज्यादा इस कविता को शेयर कीजिए अपने दोस्तों को और अपने अपनों को नमस्कार.


Written:-By A Women

नारी का सम्मान करो | Respect Women.

Jai Hind