Tuesday, December 10, 2019

Romantic Shayari (New) In Hindi 100+ Best Collection For Your Love - ShayariSangam.com

Romantic Shayari (New) In Hindi Best Collection For Your Love.





कुछ नशा तेरी बात का है 
कुछ नशा धीमी बरसात का है 
हम तो कब से नशे में डूब जाने को तैयार है 
इंतजार तो सिर्फ आपकी मुलाकात का है


बोलती है दोस्ती चुप रहता है प्यार 
बोलती है दोस्ती चुप रहता है प्यार 
हंसती है दोस्ती रुलाता है प्यार 
मिलती है दोस्ती बिछड़ता है प्यार 
फिर न जाने क्यों लोग करते हैं प्यार 


ए बारिश जरा थम के बरस 
जब मेरा यार आ जाए तो 
जम के बरस जम के बरस 
पहले ना बरस कि वह आ ना सके 
फिर इतना बरस कि वह जा ना सके 



नजरें मिले तो प्यार हो जाता है 
पलके उठे तो इज़हार हो जाता है 
नजरें मिली तो प्यार हो जाता है 
पलके उठे तो इज़हार हो जाता है 
ना जाने क्या कशिश है चाहत में 
कोई अनजान भी हमारी 
जिंदगी का हकदार हो जाता है 



तुम मिले हर खुशी मिल गई है हमें 
लगता है कि दूसरी जिंदगी मिल गई है हमें 
जिंदगी में जिसका था सालों से इंतजार हमें 
जीवन का साथी बिना मांगे मिल गया हमें 



मुलाकात मौत की मेहमान बन गई है 
नजर की दुनिया बिरान बन गई है 
मेरी सांस भी अब मेरी नहीं रही 
ए जिंदगी आपकी मोहब्बत पर कुर्बान हो गई है


तेरे हुस्न के हम दीवाने हो गए 
तेरे हुस्न के हम दीवाने हो गए 
तुझे अपना बनाते बनाते हम खुद से बेगाने हो गए 
ना छोड़ मुझे तू है जालिम 
तेरे करीब आकर हम दुनिया से बेगाने हो गए 



तेरी मोहब्बत ऐसी है फूलों में जैसे गुलाब है 
कितना भी करूं तंग रहती है हरदम पास 
जब भी करता हूं दिल से याद 
तुरंत आ जाती है मिस कॉल के साथ 



सुनहरी यादों के एहसास रहने दो 
सुरूर दिल में जुबान पर मिठास रहने दो 
यही फैसला है जीने का 
ना उदास रहो ना किसी को उदास रहने दो




क्या कहें कुछ कहा नहीं जाता 
मेरे दोस्त क्या कहें कुछ कहा नहीं जाता 
दर्द मिलता है पर सहा नहीं जाता 
प्यार हो गया है इस कदर आपसे 
बिना डिस्टर्ब किए मुझसे रहा नहीं जाता 



उन हसीन पलों को याद कर रहे थे 
आसमान से आपकी बात कर रहे थे 
सुकून मिला जब हमें हवाओं ने बताया 
सुकून मिला जब हमें हवाओं ने बताया 
आप भी हमें ही याद कर रहे थे 



काश आपकी सूरत इतनी प्यारी होती 
काश आपकी सूरत इतनी प्यारी होती 
आपसे मुलाकात हमारी ना होती 
सपनों में ही देख लेते हम आपको 
तो आज मिलने की इतनी बेकरारी नहीं होती 



कैसे कहूं कि अपना बना लो मुझे 
बाहों में अपनी समालो मुझे 
आज हिम्मत करके कहता हूं कि मैं तुम्हारा हूं 
अब तुम ही संभालो मुझे 




Aaj Aasman Ki Taron Ne Mujhse poochh liya 
Kya Tumhen Ab Bhi Intezar Hai Uske Laut aane ka 
Main Muskura Kar Kaha Tum Laut Aane Ki Baat Karte Ho 
Mujhe to Ab Bhi yakin Nahin Uske jaane ka 



Aankhon Mein Rahane Wale Ko Yad Nahin karte 
Aankhon Mein Rahane Wale Ko Yad Nahin karte 
dil Mein Rahane Walon Ki Baat Nahin karte 
Hamari to Roop Mein bus gaye hain aap 
tabhi To Ham milane ki Fariyad Nahin karte 




Aapki Ada se Ham Madhosh Ho Gaye 
aapki Ada se Ham Madhosh Ho Gaye 
aapane Palat kar Dekha To Ham behosh Ho Gaye 
Itna hi Nahin Ek baat Kahana tha aapse 
Na Jaane Kyon aapko Dekhte Khamosh Ho Gaye 




Agar jindagi Mein Judai Na Hoti 
Agar jindagi Mein Judai Na Hoti 
To kabhi kisi ki Yad Aayi Na Hoti 
Sath Hi gujarta Har Lamha to 
sath Hi gujarta Har Lamha to 
Shayad rishton Mein Ye gehrai Na Hoti 




Anjan Ek Sathi Ka Is Dil Ko Intezar hai 
anjan Ek Sathi ko Is Dil Ko Intezar hai 
Pyasi Hai Yeh Aankhen Aur Dil Bekarar hai 
Unke Sath mil jaaye to har Raah Aasan hai 




Aapko Bhul Jaayen wo Najar kahan se layen 
Aapko Bhul Jaayen wo Najar kahan se layen 
Kisi Aur Ko Chahe wo Jigar kahan se layen 
Nahin Rah Sakte hum aapke, uff Bhi Na Nikale wo Jahar kahan se layen 




Apne Hothon per Saja kar Tujhe Main 
Tere Hi geet gana chahta hun 
Jal kar Bujh Jana Hamari Kismat Hi Sahi 
Bus ek bar Roshan Hona chahta hun 





Bahane Bahane se aapki Yad Karte Hain 
Bahane Bahane se aapki Yad Karte Hain 
Har Pal aapko mahsus Karte Hain 
Itni bar to aap Sans bhi nahin lete Honge 
Jitni baar Ham aapko Yad Karte Hain 



Chaho To Dil Se Humko Mita dena 
Chaho To Dil Se Hamen Mita dena 
Par yah Vada Karo ki Aaye Jo Kabhi Yad Meri 
To Rona nahin bus Muskura dena 



Jannat mein Rahane wali Pari Ho Tum 
jannat mein Rahane wali Pari Ho Tum 
Meri Jaan Meri Jindagi Ho Tum 
Yaaron mein baithkar jo sunate hain 
A Meri Jaan vo Kahani Ho Tum 



Aankhon Ke Ishare samajh Nahin paate 
Aankhon Ke Ishare samajh Nahin paate 
Hothon Se Dil Ki Baat kah Nahin paate 
Apni Bebasi Ham Kis Tarah Kahen 
Apni Bebasi Ham Kis Tarah Kahen 
Koi hai Jiske Bina Hum Reh Nahin paate 




Duniya Mein Kisi Se Kabhi Pyar mat karna 
Apne Anmol aansu Is Tarah bekar mat karna 
Kante to Fir Bhi ye Daman Tham Lete Hain 
Phoolon pe Is Tarah Kabhi Aitbaar mat karna 



Badi ummid Thi unko apna banane ki 
Badi ummid Thi unko apna banane ki 
Tamanna Thi unke Ho Jaane Ki 
Kya pata Jiska Ham Hona Chahte the 
unhen Aadat hi nahin Thi Kisi Ko apna banane ki