Wednesday, December 11, 2019

The Best Poem On Father पिता शास्त्र है पिता शस्त्र है

पिता शास्त्र है पिता शस्त्र है

Poem On Father

दोस्तों आप सभी का पुनः स्वागत है आज मैं आप सबके लिए ऐसी कविता लेकर आया हूं जिसको पढ़कर आप मंत्रमुग्ध हो जाएंगे यह कविता "The Best Poem On Father" एक भारतीय सैनिक की लिखनी से निकली है  कृपया जरूर पढ़िए और अपने दोस्तों और रिश्तेदारों में शेयर कीजिए मुझे विश्वास है इस कविता "The Best Poem On Father" को पढ़ने के बाद बहुत ही अच्छा लगेगा इस कविता में लिखी गई हर बात आपको एक अलग एहसास कराएगा ऐसी सच्ची निष्ठा को समर्पित मेरे शब्दो का गुलिस्ता है,क्योकि पिता बस एक शब्द नही पूरी कविता है|

Poem On Father

*********************

पिता शास्त्र है पिता शस्त्र है
पिता शास्त्र है पिता शस्त्र है
पिता से ही खिलौने और वस्त्र है
पिता वह है जो अपनी जिंदगी कभी नही जीता है
पिता बस एक शब्द नही पूरी कविता है

पिता कठोर है पर नारियल जैसा 
जो जीवन की हर पाठ पढ़ाये पिता है वैसा
पिता सभ्यता है पिता व्यवहार है
पिता भगवान का दूजा अवतार है

पिता हंसाता है 
पिता रुलाता है 
इस जिंदगी के हर मोड़ पर 
चलना सिखाता है


बहुत ही खुश किस्मत हैं वह लोग 
जिनके मां बाप-जिंदा हैं 
कदर करो उस मां बाप का 
वरना आज जिनके मां बाप नहीं 
वह इस संसार में बिचड़ता हुआ परिंदा है


जो खुद भूखा रह तुम्हे खिलाये
सुबह का गया रात घर आये
बच्चो के मुस्कान के खातिर
वो कहा चैन से सोता है 


क्योकि पिता बस एक शब्द नही पूरी कविता है
अगर पिता है तो सारे रिस्तेदार अपने है
अगर पिता है तो सारे सपने अपने है
जो जीत पे खुशिया नही मनाये
पर हार पर गले लगाकर धैर्य से 
हिम्मत तेरा बढ़ाये 

पिता शास्त्र है पिता शस्त्र है
पिता शास्त्र है पिता शस्त्र है
पिता से ही खिलौने और वस्त्र है
पिता वह है जो अपनी जिंदगी कभी नही जीता है
पिता बस एक शब्द नही पूरी कविता है

*********************

दोस्तों यह कविता जो कि एक सैनिक के कलम से लिखी गई थी आप को पढ़कर कैसा लगा यह कमेंट में बताना और अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को पक्का शेयर करना क्योंकि इस कविता को एक पिता के महत्व को मध्य नजर रखते हुए लिखा गया है इसलिए इसे जरूर शेयर करें 

----- जय हिंद जय भारत -----

कवि:- मनीष कुमार तिवारी

Post a Comment